19-Feb-2020

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

मृतक की पत्नि को शोक से उठाकर सभा स्थल पर बैठाकर मृतक के ससुर व जेठ के विरोध में खड़ा किया : कांग्रेस

Previous
Next

दलित युवक की मौत पर राजनीति करने गए भाजपा नेताओं को यदि दलित युवक
की चिंता थी तो उसके घर सांत्वना देने जाते, उसके परिजनों की मदद करते
लेकिन राजनीतिक सभा करते रहे, सभा स्थल पर शोक अवधि के दौरान पत्नि को बुलाकर
भाजपा नेता भाषण बाजी करते रहे, मुस्कुराते रहे, हार फूल पहन कर स्वागत कराते रहे
भाजपा ने मंदसौर की तरह सागर में भी खेली घृणित राजनीति


भोपाल, 28 जनवरी, 2020, मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने बताया कि सागर के धर्मश्री निवासी धन प्रसाद अहिरवार के साथ 14 जनवरी को सागर में मिट्टी का तेल डालकर जलाने की घटना हुई थी। इस घटना के सभी आरोपियों को तत्काल गिरफ्तार भी कर लिया गया था। युवक के परिजनों को सरकार ने आर्थिक सहायता भी उपलब्ध कराई और पीड़ित युवक का सरकारी खर्च पर इलाज भी कराया। भाजपा पहले दिन से इस मामले पर बयानबाजी कर क्षेत्र का सांप्रदायिक माहौल बिगाड़ने में लगी हुई है और उनकी बयानबाजी के बावजूद क्षेत्र में शांति रही तो आज माहौल बिगाड़ने तमाम भाजपा नेतागण सागर पहुंच गये। उम्मीद थी कि आज सारे भाजपा नेता मृतक के घर जाएंगे, परिजनों को सांत्वना प्रदान करेंगे, परिजनों की आर्थिक मदद करेंगे लेकिन दलित युवक की मौत पर राजनीति करने वाले भाजपा नेता एक बड़ा मंच सजा कर जंगी सभा करने बैठ गए। जिस पर बैठकर वे खूब मुस्कुराते रहे और सामने मृतक की पत्नि को बैठाकर लंबे-चौड़े राजनीतिक भाषण देते रहे और सागर पहुंचकर हार फूलों से खुद का स्वागत कराते रहे, बेहद शर्मनाक है, यही इनका चरित्र है। दलित युवक की मौत पर राजनीति कर अपने राजनीतिक दुकान चमकाने के लिए तमाम भाजपा नेता आज सागर गए, इनको दलित युवक की मौत का कोई दुख नहीं है, इन्हें तो सिर्फ अपनी राजनीतिक रोटी सेकी थी, इसलिए इन्होंने यह आयोजन रखा।
भाजपा ने आज बेहद घृणित राजनीति खेली। मृतक युवक के परिवार में फूट डाल दी। मृतक की भोली-भाली पत्नि को गुमराह कर व बहला-फुसला कर 13 दिनों के शोक के दौरान राजनीतिक सभा स्थल पर लाकर जमकर भाषण बाजी करते रहे और उसके ससुर और जेठ के खिलाफ बयान दिलाते रहे। ठीक उसी तरह जिस तरह उन्होंने मंदसौर गोली कांड के दौरान शहीद हुए किसान भाईयों के परिजनों को 13 दिन के भीतर ही भोपाल उपवास स्थल पर बुलाया था।
सलूजा ने कहा कि आज दलित हितेषी होने का ढोंग कर रहे शिवराज अपने शासन काल में दलित एवं आदिवासी भाईयो के ऊपर हुए अपराधों को शायद भूल गये हैं। वे भूल गये है कि उनके शासन काल के दौरान मध्यप्रदेश दलित एवं आदिवासियों पर होने वाले अपराधों व अत्याचारों में देश में शीर्ष पर हुआ करता था। जिसके गवाह एनसीआरबी के उस समय के आंकड़े है।

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp


Warning: Invalid argument supplied for foreach() in /srv/users/serverpilot/apps/rajkaaj/public/news/footer1.php on line 120
Total Visiter:0

Todays Visiter:0