07-Apr-2020

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

एमपी: अपेक्स बैंक, दुग्ध महासंघ सहित सभी जिला बैंकों के प्रशासकों को हटाया, अफसरों को किया नियुक्‍त

Previous
Next

भोपाल, बुधवार को सहकारिता आयुक्‍त ने अपेक्स बैंक, दुग्ध महासंघ सहित जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों में नियुक्त सभी प्रशासकों को हटा दिया। कमल नाथ सरकार ने कांग्रेस नेताओं को उपकृत करने के लिए प्रशासक बनाया था। सहकारिता विभाग ने सभी बैंकों में नियुक्त प्रशासकों की सूची बनाकर मंगलवार को मुख्यमंत्री कार्यालय भेजी थी। जिसे मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह की मंजूरी मिल गयी।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश मिलने पर सहकारिता आयुक्त डॉ.एमके अग्रवाल ने सभी अशासकीय प्रशासकों को हटाते हुए सहकारिता विभाग के अधिकारियों को प्रशासक नियुक्त कर दिया है। दुग्ध महासंघ के प्रशासक प्रमुख सचिव सहकारिता और अपेक्स बैंक के प्रशासक आयुक्त सहकारिता होंगे।



पता चला है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमल नाथ सरकार द्वारा की गयी सभी राजनीतिक नियुक्तियों को निरस्त करने का निर्णय लिया हैं। सहकारिता विभाग ने अपेक्स (राज्य सहकारी) बैंक में ग्वालियर के कांग्रेस नेता अशोक सिंह को प्रशासक बनाकर सहकारी बैंकों में कांग्रेस नेताओं को समायोजित करने की शुरुआत की थी। इसके बाद दुग्ध महासंघ का प्रशासक तंवर सिंह को बनाया गया था। विगत दिवास शिवराज सरकार ने सभी आयोग में की गयी नियुक्तियां निरस्‍त कर दी थी। इन आदेशों में महिला आयोग की अध्‍यक्ष शोभा ओझा एवं सदस्‍यों की नियुक्ति का आदेश शामिल नहीं था। लेकिन बुधवार को ही 24 मार्च की तिथि में इस आदेश को भी जारी कर दिया गया है।

जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों में जो प्रशासक बनाए थे, उनमें कमल नाथ, दिग्विजय सिंह, डॉ.गोविंद सिंह सहित अन्य नेताओं के समर्थकों की संख्‍या अधिक थी। सत्ता परिवर्तन से कुछ दिन पहले ही भोपाल जिला सहकारी केंद्रीय बैंक में सुभाष शुक्ला को प्रशासक बनाया गया था। इसी तरह रायसेन, देवास और खरगोन में भी प्रशासक बनाए गए थे लेकिन आपसी विवाद के चलते कार्यभार ग्रहण करने पर रोक लगा दी थी। वहीं, सीहोर, सतना और छतरपुर में पहले से अध्यक्ष पदस्थ हैं।

होशंगाबाद, खरगोन, खंडवा और देवास में कलेक्टर प्रशासक हैं। मुख्यमंत्री कार्यालय के अधिकारियों का कहना है कि राजनीतिक दृष्टिकोण से जितनी भी नियुक्तियां हुई थी, वे सभी निरस्त करने का सैद्धांतिक निर्णय हो चुका है। इसमें सहकारी संस्थाओं में हुई नियुक्तियां भी शामिल हैं।

इन्हें बनाया था प्रशासक

भोपाल- सुभाष शुक्ला, बैतूल-अरुण गोठी, राजगढ़-हेमराज कल्पोनी, विदिशा-घनश्याम तिवारी, ग्वालियर- वासुदेव शर्मा, भिंड- उदय प्रताप सिंह सेंगर, दतिया- रामबहादुर सिंह गुर्जर, गुना- महेंद्र कुमार शर्मा, शिवपुरी- वासिद अली, इंदौर- अंतरसिंह दरबार, धार- कुलदीप सिंह बुंदेला, झाबुआ- मानसिंह मेढ़ा, जबलपुर- नीलेश अवस्थी, बालाघाट-उदयसिंह नगपुरे, छिंदवाड़ा- विजय चौधरी, मंडला- सूरज प्रसाद तिवारी, नरसिंहपुर-मैथलीशरण तिवारी, सिवनी-राजा बघेल, रीवा-रमा शंकर सिंह पटेल, शहडोल-मेहमूद अहमद, सीधी-राजेंद्र सिंह भदोरिया, सागर-संतोष पांडे, दमोह-गजेंद्र सिंह पटेल, टीकमगढ़-गोविंद सिंह गौर, उज्जैन-अजीत सिंह ठाकुर, मंदसौर-उमराव सिंह गुर्जर, रतलाम-विरेंद्र सिंह सोलंकी, शाजापुर- विरेंद्र सिंह गोहिल एवं मुरैना- हरिसिंह सिकरवार शामिल हैं।

साभार

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp


Warning: Invalid argument supplied for foreach() in /srv/users/serverpilot/apps/rajkaaj/public/news/footer1.php on line 120
Total Visiter:0

Todays Visiter:0