03-Jun-2020

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

प्रदेश में टिड्डी दल का प्रवेश, कृषि विभाग ने उठाए ठोस कदम

भोपाल : गुरूवार, मई 21, 2020, प्रदेश में टिड्डी दलों के प्रवेश के मद्देनजर कृषि विभाग ने इनकी निगरानी और रोकथाम का अभियान शुरू कर दिया है। समस्त संभागों में कृषि विभाग के संयुक्त संचालकों कृषि तथा जिलों के उप संचालकों कृषि को सजगता बरतने तथा टिड्डी दलों से निपटने के लिये सभी जरूरी कदम उठाने की ताकीद की गई है।

संचालक किसान कल्याण तथा कृषि विकास ने बताया कि फिलहाल उज्जैन संभाग के जिलों में टिड्डी दलों की मौजूदगी की सूचना प्राप्त हुई है। रासायनिक पौध संरक्षण औषधि का छिड़काव कर इनका नियंत्रण करने के प्रयास किये जा रहे हैं। दिन के समय में टिड्डी दल जिन जिलों में चलायमान होता है, वहां मैदानी अमला सतत् निगरानी कर रहा है। टिड्डी दल की निगरानी और रोकथाम के लिये कृषि विभाग के साथ-साथ केन्द्रीय दल और जिला प्रशासन के अधिकारी भी जुटे हुए हैं। साथ ही प्रभावित क्षेत्र वाले किसानों को भी आवश्यक समझाईश एवं रोकथाम के उपाय बताये जा रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि 18 मई को मंदसौर जिले के विभिन्न ग्रामों में टिड्डी दल की रोकथाम के लिये प्रभावित क्षेत्रों में कीटनाशक का छिड़काव किया गया। इसी प्रकार 20 मई को भी 2 अन्य टिड्डी दलों पर काबू पाने के लिये कीटनाशक का उपयोग किया गया। टिड्डी दलों की प्रभावी रोकथाम के लिये 26 ट्रैक्टर चलित स्प्रे-पंप और 4 फायर ब्रिगेड का उपयोग किया गया। उज्जैन जिले के कुछ अन्य ग्रामों में भी छिड़काव के लिये ट्रैक्टर चलित स्प्रे-पंप और फायर ब्रिगेड का इस्तेमाल किया गया।

इनके अलावा नीमच, रतलाम, उज्जैन और देवास जिलों के टिड्डी दल प्रभावित क्षेत्रों में कीटनाशक का छिड़काव किया गया। सूचना के मुताबिक उज्जैन जिले में 2 टिड्डी दल चल रहे हैं। फिलहाल महिदपुर झाड़ा के अलावा इंदौर जिले के देपालपुर और महू में टिड्डी दल चलायमान है। इनसे निपटने के लिये टिड्डी दलों की सतत् निगरानी की जा रही है। टिड्डी दलों के रात्रि ठहराव के स्थानों पर प्रात: 4 बजे से कीटनाशकों का छिड़काव किया जायेगा।

टिडडी दल का भारत में प्रवेश पाकिस्तान की चाल- मालू

खनिज विकास निगम के पूर्व उपाध्यक्ष गोविन्द मालू ने कहा कि पाकिस्तान से आए टिड्डी दल का खतरा मालवा और इंदौर के आसपास के क्षेत्रों में आने और उससे होने वाले आसन्न नुकसान के लिए सतर्क रहने और पूर्व तैयारी की जरूरत है। उन्‍होंने कहा कि यह खड़ी फसलों के अलावा सब्जियों और फलों के बड़े वृक्षों को तहस नहस करता है।इसलिए इस नुकसान की भरपाई होना संकट का कारण है। जिस तरह कोरोना वायरस में चीन की भूमिका संदेह के घेरे में है वैसे ही टिड्डी दल को भारत की सीमा में धकेलना पाकिस्तान की चाल है।
मालू नें इस सम्बन्ध में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्रसिंह तोमर प्रदेश के कृषि मंत्री श्री कमल पटेल से चर्चा कर कृषि विशेषज्ञों के द्वारा इससे बचाव के उपाय करने का अनुरोध किया है। तोमर ने कहा कि केंद्र के विशेषज्ञों का दल बराबर इस बारे में सतर्क और मुस्तैद है। पल पल की जानकारी से हम अवगत है। इंदौर के संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी से भी चर्चा की और उन्होंने कृषि संयुक्त संचालक से तुरंत इस बारे में आवश्यक उपाय करने के निर्देश दिए।
मालू की उज्जैन संभागायुक्त आनन्द शर्मा से भी चर्चा हुई। शर्मा नें कहा कि हम मुस्तेदी के साथ सतर्क भी हैं, हमने 70 प्रतिशत तक टिड्डी दल आपदा पर काबू पा लिया है और गाँव गाँव में डीजे लगवाए जाकर रोशनी की भी व्यवस्था की है।
Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp


Warning: Invalid argument supplied for foreach() in /srv/users/serverpilot/apps/rajkaaj/public/news/footer1.php on line 120
Total Visiter:0

Todays Visiter:0