24-Apr-2019

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

टीएमसी विधायक की हत्या मामले में बीजेपी नेता मुकुल रॉय सहित चार लोगों पर FIR

Previous
Next

पश्चिम बंगाल के नदिया जिले में स्थित कृष्णागंज से तृणमूल कांग्रेस के विधायक सत्यजीत बिश्वास की हत्या के मामले में बीजेपी नेता मुकुल रॉय सहित चार लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. पुलिस ने बताया कि एफआईआर में दर्ज चार आरोपियों में से दो को गिरफ्तार किया जा चुका है.

बिश्वास शनिवार शाम एक सरस्वती पूजा समारोह में गए थे, जहां अज्ञात हमलावरों ने उनपर ताबड़तोड़ कई गोलियां चलाईं. उन्हें तुरंत ही नजदीकी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

इस समारोह में टीएमसी की नदिया यूनिट के अध्यक्ष गौरीशंकर दत्ता और राज्य की मंत्री रत्ना घोष भी मौजूद थी. हालांकि खुशकिश्मती से वे दोनों गोलीबारी से कुछ ही मिनट पहले समारोह स्थल से जा चुके थे.

पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों को हिरासत में लिया है. नदिया जिले के एसपी रूपेश कुमार ने बताया, 'हमने तीन लोगों को हिरासत में लिया है. हमने हत्‍या में इस्‍तेमाल किया गया देसी कट्टा जब्‍त कर लिया है. शुरुआती जांच में सामने आया है कि उन्‍हें पीछे से गोलियां मारी गईं. यह सुनियोजित तरीके से की गई हत्‍या है.'

बिश्‍वास मटुआ समुदाय से आते हैं जो कि राजनीतिक रूप से बंगाल में काफी अहम है. वे इलाके में लोकप्रिय थे और कुछ दिनों पहले ही उनकी शादी हुई थी. बीजेपी और टीएमसी दोनों की ही इस समुदाय पर नजर है. पिछले चुनावों में मटुआ समुदाय का समर्थन ममता बनर्जी के साथ रहा है. इस बार बीजेपी ने इस समुदाय में काफी जगह बनाई है. मटुआ समुदाय आजादी के समय बांग्‍लादेश से भारत आया था.

नदिया जिला बांग्‍लादेश सीमा के करीब है और बीजेपी ने हाल के दिनों में यहां पर काफी पैठ बनाई है. पंचायत चुनावों में बीजेपी को काफी कामयाबी मिली थी. अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के समय नदिया लोकसभा सीट से बीजेपी के उम्‍मीदवार सत्‍यब्रत मुखर्जी जीते थे और वे मंत्री भी बने थे. हालांकि 2014 में उन्‍हें 26 फीसदी वोट ही मिले थे.

टीएमसी ने इस मामले को राजनीतिक हत्या करार दिया है. पार्टी ने इसे राजनीतिक हत्‍या बताया और दोषियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई की मांग की. वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने इन आरोपों से इनकार किया है. उन्‍होंने कहा कि यह टीएमसी की आपसी गुटबाजी की लड़ाई है. उन्‍होंने मांग की है कि दोषियों को जल्‍द से जल्‍द पकड़ा जाए. उन्‍होंने सीबीआई जांच की मांग की है और कहा कि उन्‍हें पश्चिम बंगाल पुलिस पर विश्‍वास नहीं है.

साभार- न्‍यूज 18

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp


Warning: Invalid argument supplied for foreach() in /srv/users/serverpilot/apps/rajkaaj/public/news/footer1.php on line 120
Total Visiter:0

Todays Visiter:0