01-Jun-2020

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

इंदौर एवं भोपाल में कोरोना पॉजिटिव्‍ह के केस बढ़े, एमपी में भी सामने आ रहे मामले

Previous
Next

राजकाज न्‍यूज, भोपाल एवंं इंदौर

मध्‍यप्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। मंगलवार सुबह भोपाल में 12 नए पॉजिटिव मरीज मिले हैं, जो सभी स्वास्थ्य विभाग और पुलिस के हैं। इसमें एक कटनी के कैमोरे के रहने वाले कर्मचारी भी हैं, जिन्होंने हाल ही में अपने माता-पिता को भोपाल से घर भेजा था। इसके बाद कटनी में भी टोटल लॉकडाउन कर दिया गया है। इधर, कोरोना वायरस मरीजों के मामले में इंदौर देश में तीसरे नंबर पर पहुंच गया है, इंदौर में कोरोना पॉजिटिव आंकड़ा 160 तक पहुंचा, 9 पॉजिटिव मरीज और मिले। इसी प्रकार उज्जैन जिले के नागदा में भी एक कोरोना पॉजिटिव मरीज मिला है। ग्वालियर में चार नये कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं जबकि मुरैना में एक और मरीज बढ़ा। अन्‍य जिलों में भी कुछ प्रकरण सामने आ रहे हैं।

इंदौर के बढ़ते मामलों में इंदौर तीसरे नंबर पर

इंदौर में रोज कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। सोमवार को आई 16 मरीजों की रिपोर्ट के बाद इंदौर में संक्रमितों की संख्या 151 पहुंच चुकी है। वहीं इनमें से 13 की मौत हुई है। इसी के साथ इंदौर देश में तीसरे नंबर पर पहुंच गया है। 526 मरीजों के साथ मुंबई पहले और 152 मरीजों के साथ केरल का कासरगौड़ दूसरे स्थान पर है। सोमवार को आई रिपोर्ट के अनुसार जिन चार लोगों की मौत की पुष्टि कोरोना से हुई है, उनमें से तीन की मौत रिपोर्ट आने के पहले हो चुकी थी। नए मरीजों में दाऊदी नगर खजराना से 13 साल का एक बच्चा भी शामिल है। वहीं पॉजिटिव 12 मरीजों में से 3 मरीज क्वारंटाइन सेंटर में पहले से ही भर्ती हैं। इनमें से 1 मरीज टाटपट्टी बाखल से भी है। वहीं टाटपट्टी बाखल में पॉजिटिव मरीजों की संख्या 19 पहुंच चुकी है। उधर, एमवायएच कैंपस से भी एक नर्स पॉजिटिव है।

इंदौर चिड़ियाघर पूर्ण सुरक्षित, बढ़ाई सतर्कता

अमेरिका में एक बाघ को कोरोना संक्रमित होने की सूचना ने तहलका मचा दिया है । पहले जानवर से इंसान, ओर अब इंसान से जानवरो में कोरोना पहुंचने की शंका जताई जा रही है  लेकिन इंदौर के चिड़ियाघर अभी कोरोना से जानवरो को बचाने में सफल हो रहा है। प्रभारी डॉ. उत्तम यादव ने बताया कि यह संभव है कि इंसानों के माध्यम से जानवरो में भी कोरोना संक्रमण पहुंच सकता है। लेकिन हम पूरे प्रिकॉशन के साथ जानवरो की देखरेख कर रहे है । सेनिटाइजर, ग्लब्स सहित अन्य उपयोगी चीजो का इस्तेमाल किया जा रहा है। अमेरिका की घटना के बाद अब इंदौर ज़ू में भी ओर अधिक अलर्ट कर दिया गया है।
अच्छे मन से एवं गंभीरता से काम करें रैपिड रिस्पांस टीम- कलेक्टर मनीष सिंह
जिला कलेक्टर मनीष सिंह ने आज मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के लिए कार्य कर रही टीम को ब्रीफ किया। उन्होंने रैपिड रिस्पांस टीम का मनोबल बढ़ाया एवं कहा कि, वे हर परिस्थिति में उनके साथ हैं। परंतु किसी भी स्थिति में लापरवाही की कोई गुंजाइश नहीं है। द एपिडेमिक डिजीज एक्ट 1897 के अंतर्गत जिले के सभी डॉक्टर्स, अधिकारी, मीडिया कर्मी, नगर निगम,  अपने-अपने स्तर पर बेहतरीन एवं डिसिप्लिन में रहकर कार्य कर रहीं हैं। ऐसी स्थिति में यदि कोई डॉक्टर लापरवाही बरतता है तो उसके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।
 
उन्होंने कहा कि डॉक्टर्स को सैंपलिंग का कार्य गंभीरता से करना है। जिस घर में जाकर सैंपल एवं सर्वे का कार्य किया जा रहा है वहां सर्वे टीम को, उन्हें अपने बच्चों की तरह सेवा भाव से कार्य करना होगा। कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि रैपिड रिस्पांस टीम के द्वारा किए गए कार्य कि वे स्वयं नियमित रूप से मॉनिटरिंग कर रहे हैं। वे अन्य स्रोतों से फीडबैक भी ले रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग का मनोबल बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि, सीएमएचओ के मार्गदर्शन में सभी स्वास्थ्य कर्मी बहुत मेहनत से कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि, किसी भी प्रकार की दिक्कत में, मैं आपके साथ खड़ा हूं। उन्होंने बताया कि मीडिया डाक्टर अधिकारी सभी एक दायरे में रहकर इस डिसीज को इस संक्रमण को दूर करने के लिए कार्य कर रहे हैं। रानीपुरा हाथीपाला जैसे हॉटस्पॉट क्षेत्रों में मेडिकल टीम के हेड को जिम्मेदारी सौंपी गई है।
निजी अस्पताल संचालक संपूर्ण स्टाफ की उपस्थिति करें सुनिश्चित
निजी अस्पतालों के संबंध में उन्होंने निर्देश दिए कि अस्पताल संचालक यह सुनिश्चित करें कि उनका समस्त मेडिकल स्टाफ अस्पताल आकर सेवा दे। इसके लिए उन्हें 24 घंटे का समय दिया गया है। अन्यथा की स्थिति में कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने बताया कि आज शहर जिस संकट से गुजर रहा है उस स्थिति में लापरवाही क्षम्य योग्य नहीं। 
इंडेक्स  मेडिकल कॉलेज रेड कैटेगरी अस्पताल में शामिल
इंडेक्स मेडिकल कॉलेज को कोविड-19 पॉजिटिव लिस्ट में शामिल किया गया है। यहां कोरोना संक्रमण से संभावित माइल्ड सिम्टम्स वाले मरीजों को भेजा जाएगा। करोना से मृत मृत मरीजों को दफनाने या जलाने के संबंध में उन्होंने बताया कि, आईसीएमआर (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) तथा दिल्ली से प्राप्त गाईडलाइन के आधार पर दफनाना एवं जलाना दोनों ही शामिल है। बशर्ते इस कार्य में लोग पूर्ण सावधानी एवं प्रोटेक्शन से कार्य करें। नगर निगम के संबंध में उन्होंने जानकारी दी कि, जहां कहीं भी  कमियों की शिकायत आ रही है वह तेजी से दूर की जा रही है। खाद्य सामग्री के वितरण का कार्य भी अब गति ले चुका है। 
कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि कर्फ्यू के दौरान लोगों के बिना वजह बाहर घूमने पर सख्त प्रतिबंध लगाया गया है। रहवासी कोई भी मेडिकल प्रिसक्रिप्शन लेकर बाहर नहीं निकल पाएंगे। पुलिस बल को निर्देश दिए हैं कि यदि वह प्रिसक्रिप्शन वैलिड तथा किसी गंभीर बीमारी से संबंधित है, उसी स्थिति में व्यक्ति बाहर निकले अन्यथा एपिडेमिक डिजीज एक्ट 1897 के तहत कार्यवाही की जाएगी।
कोरोना संक्रमण की रोकथाम हेतु समस्त 85 वार्डों मे सेनीटाइज का कार्य जारी
निगमायुक्त से आशीष सिंह ने बताया कि  कोरोना  संक्रमण की रोकथाम के लिए निगम द्वारा  समस्त 85 वार्डों में सैनिटेशन का कार्य किया जा रहा है इसके लिए 60 ट्रैक्टर 15 प्रेशर मशीन तथा 10 रिक्शा के द्वारा  शहर के विभिन्न क्षेत्रों में  सैनिटेशन का कार्य किया जा रहा है  तथा प्रत्येक वार्ड में 2 शिफ्ट में सेनीटाइज का कार्य किया  जाता है l
 
वर्कशॉप प्रभारी श्री मनीष पांडे ने बताया कि आयुक्त श्री सिंह के निर्देश अनुसार  उपरोक्त उल्लेखित  वाहनों से समस्त वार्डों में  चार्ट बनाकर  दो शिफ्ट में संबंधित जोन क्षेत्र के स्वास्थ्य अधिकारी सीएसआई द्वारा कार्य लिया जा रहा है  शहर के अधिकांश हिस्सों में  दो से तीन बार  सैनिटेशन का कार्य  पूरा किया  गया है! कोरोना संक्रमित क्षेत्रों में  विशेष रुप से सैनिटेशन का कार्य भी किया जा रहा है

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (क्राईम ब्रांच) श्री राजेश दण्डोतिया के निर्देशन में इंदौर *क्राइम ब्रांच द्वारा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर सतत निगरानी रखी जा रही है जिसमे अफवाह तथा लोगों को भड़काने के उद्देश्य से उन्मादी/साम्प्रदायिक अथवा भड़काऊ मैसेज को पोस्ट या शेयर करने वालों के विरुद्ध सख्ती से कार्यवाही की जा रही है।* समय समय पर अफवाहों के सम्प्रेषण को रोकने के लिए इंदौर पुलिस द्वारा विभिन्न एडवाइजरी जारी कर आमजन को सचेत किया जाता रहा है। प्रायः देखने मे आ रहा है कि वर्तमान समय में इंदौर में भी कई व्हाट्सऐप ग्रुप/फेेसबुक/ट्विटर आदि सोशल मीडिया प्लेटफार्म्स पर नीचे दर्शित वीडियो वायरल किये जा रहे हैं। नीचे दर्शित भड़काउ एवं आपत्तिजनक वीडियों/पोस्ट के संदर्भ में स्थानीय पुलिस द्वारा अपराध पंजीबद्ध कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।
भोपाल में 19 नये मामलें
भोपाल में मंगलवार सुबह कोरोना संक्रमण के 19 नए केस सामने आए, इनमें 5 स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी-कर्मचारीऔर 7 पुलिस कर्मचारी और उनके परिवार के लोग शामिलहैं। अब राजधानी में कोरोना पॉजिटिव की संख्या बढ़कर 82 हो गई है। इसमें स्वास्थ्य विभाग के ही 34 केस सामने आए। सोमवार तक स्वास्थ्य विभाग के 29संक्रमित थे। शाम तक ये आंकड़ा और बढ़ सकता है। सीएमएचओ डॉ. सुधीर डेहरिया ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंनेलोगों से अपील की है कि वह अपने घरों में ही रहें। स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों औरअधिकारियों को भर्ती किया जा रहा है।उनके परिवार में किसी को भी संक्रमण के लक्षण दिखाई दे रहे हैं,वह तुरंत जांच कराएं और वह किस-किस से मिल चुके है, इसकी जानकारी दें ताकि कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की जा सके और संक्रमण को रोका जा सके। पुलिस कर्मचारियों की संख्या भी 15 पहुंच गई है।

पाॅजिटिव आने के दाे दिन बाद अस्पताल पहुंचे स्वास्थ्य विभाग के अफसर

भोपाल के 82 कोरोना पॉजिटिव में 34 उसी स्वास्थ्य विभाग के अफसर और कर्मचारी हैं, जिनके कंधों पर कोरोना से जंग की जिम्मेदारी है। चिंता की बात ये है कि दाे दिन पहले पाॅजिटिव रिपाेर्ट मिलने के बावजूद महकमे के कोरोना अफसर घर में बने रहने की जिद पर अड़े रहे। स्वास्थ्य विभाग की प्रमुख सचिव पल्लवी जैन गोविल, रुबी खान, उपसंचालक डॉ. वीणा सिन्हा और डॉ. उपेन्द्र दुबे की रिपोर्ट शनिवार को ही पॉजिटिव आ गई थी। फिर भी ये अस्पताल नहीं पहुंचे। जिला प्रशासन के अफसर दो दिनों से अस्पताल में शिफ्ट होने की मिन्नतें कर रहे, लेकिन ये तैयार नहीं हुए। पहले दिन इन्हाेंने घराें के बाहर काेराेना पाॅजिटिव पेशेंट का पाेस्टर भी नहीं लगने दिया। इन अफसरों के हठ से हारकर जिला प्रशासन ने मुख्य सचिव से गुहार लगाई। सोमवार रात को प्रमुख सचिव गोविल और डॉ. सिन्हा बंसल अस्पताल में शिफ्ट हुईं। रुबी खान को चिरायु में शिफ्ट किया गया।

63 क्षेत्रों को कैंटोनमेंट एरिया घोषित किया
कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही प्रशासन ने 22 नए कंटेनमेंट एरिया घोषित किए हैं। इनके साथ ही शहर में कंटेनमेंट एरिया की संख्या बढ़कर अब 63 हो गई। नए घोषित एरिया में बाग सेवनिया, रीगल होम्स खजूरीकलां, जानकी नगर चूना भट्टी, सलैया, पार्वती नगर कोलार, टीटी नगर पुलिस आवासीय परिसर के तीन मकान, जहांगीरबाद, 25वीं बटालियन, शिवाजी नगर, अशोका गार्डन, नुपूर कुंज, एसबीआई कॉलोनी जहांगीराबाद, नॉर्थ टीटी नगर, घरोंदा हाइट्स कोलार, ऋषि नगर चार इमली, अवधपुरी, 477 बाग सेवनिया, खनूजा इनक्लेव दाना पानी, रचना नगर और अमलतास फेज- शामिल हैं। इन एरिया में बाहरियों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है।

भोपाल का कोरोना पॉजीटिव माता-पिता को कटनी लेकर गया, वहां दो दिन का टोटल लॉकडाउन
कटनी और 20 किमी दूर केमोर को टोटल लॉकडाउन कर दिया गया है। असल में, भोपाल मे पदस्थ स्वास्थ्य कर्मी अपने माता-पिता को 2 मार्च को भोपाल से कटनी लेकर गया था। इसके बाद लौटा तो सोमवार को उसकी रिपार्ट पॉजिटिव आई है। स्वास्थ्य कर्मी के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद पूरे जिले में हाईअलर्ट कर दिया गया है। इसके साथ ही आज सुबह साढ़े 9 बजे के बाद अगले 2 दिन का टोटल लॉकडाउन लागू किया गया है। प्रशासन सख्ती दिखाते हुए सभी तरह की दुकान बंद करा दीं। इनमें दूध, किराना सब्जी तथा दवाइयों की दुकान भी शामिल हैं। लोगों से कहा गया है कि घबराने की जरूरत नहीं है। यहां पर 12 लोगों को क्वारैंटाइन किया गया है, जिसमें स्वास्थ्यकर्मी के माता पिता भी शामिल हैं, जिसमें 11 के सैंपल लिए जा चुके हैं।
271 पुलिस कर्मचारी ड्यूटी के बाद घर नहीं जा सकेंगे

चार पुलिसकर्मियों और उनके परिवार के दो सदस्यों में भी संक्रमण की पुष्टि हुई है। वहीं अब तक 15 पुलिसकर्मियों केकोराेना वायरस की चपेट में आ चुके हैं। इसे देखते हुए भोपाल के तीन थानों के 271 पुलिसकर्मी अब घरों के बजाय होटल में रहेंगे। राजधानी में दो दिन में संक्रमित मरीजों की संख्या 18 से 63 पर पहुंच गई है। साेमवार को 22 नए कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित किए गए। शहर में अब 63 कंटेनमेंट क्षेत्र हो चुके हैं, जहां आवाजाही पूरी तरह बंद कर दी गई है।

उज्जैन जिले में कोरोना संक्रमण के 13 मामले सामने आ चुके हैं। मंगलवार सुबह नागदा तहसील के एक युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, वहीं दोपहर में कोटमोहल्ला निवासी 42 वर्षीय महिला और क्षेत्र के ही 11 साल के बच्चे की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। महिला की दो दिन पहले मौत हो गई थी। रिपोर्ट आने के बाद कोटमोहल्ला क्षेत्र को प्रतिबंधित जोन बना दिया है। साथ ही स्वास्थ्य महकमे ने सर्वे शुरू कर दिया है। उज्जैन में कुल 13 मरीजों में से 5 की मौत हो चुकी है। इनमें चार बुजुर्ग महिलाएं और युवक शामिल है।

महू के टाल मोहल्ला में दो बुजुर्गों की मौत के बाद इलाका किया सील

महू के टाल मोहल्ला में दो बुजुर्गों की मौत हुई है। हालांकि इन्हें कोरोना पीड़ित नहीं बताया जा रहा है लेकिन एहतियात के तौर पर प्रशासन ने इलाका सील कर दिया है। यहां कुछ लोगों को आइसोलेशन में भेजा जा रहा है। दोनों बुजुर्ग अलग-अलग परिवारों के हैं।
Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp


Warning: Invalid argument supplied for foreach() in /srv/users/serverpilot/apps/rajkaaj/public/news/footer1.php on line 120
Total Visiter:0

Todays Visiter:0