23-Jul-2019

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

शिक्षा से वंचित बच्चे स्कूल जाएं यह हमारी सामूहिक जिम्मेदारी

Previous
Next

 बच्चों का भविष्य कैसे सुरक्षित हो यह सबसे बड़ी चुनौती है
मुख्यमंत्री कमल नाथ छिंदवाड़ा में स्कूल चलें हम कार्यक्रम में शामिल हुए

भोपाल : रविवार, जुलाई 7, 2019, मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा है कि शिक्षा से वंचित बच्चों के स्कूल प्रवेश के लिये सभी लोगों को मिलकर प्रयास करना होंगें। यह सामूहिक जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि आज हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती है कि हम अपने बच्चे के भविष्य को कैसे सुरक्षित बनाएं। श्री नाथ आज छिंदवाड़ा में स्कूल चलें हम अभियान कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि शिक्षा हमारे, देश, प्रदेश और समाज के लिए बहुत जरूरी है। इसलिए हम सबकी कोशिश होना चाहिए कि हम अपने आसपास ऐसे बच्चों को पहचानें, जो शिक्षा से वंचित हैं, जो कई कारणों से स्कूल नहीं जा पा रहे हैं। ऐसे बच्चों को स्कूल जाने के लिए प्रेरित करना हम सबकी सामाजिक जिम्मेदारी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने ऐसे ही बच्चों के लिए जो स्कूल नहीं जा पा रहे हैं, स्कूल चलें हम अभियान की शुरुआत की है।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि शिक्षा के बाद बच्चों के भविष्य को बेहतर बनाने की चुनौती का सामना भी हम सब को करना है। उन्होंने कहा कि हमारी नई पीढ़ी नई सोच के साथ नई तकनीक को अपना रही है। उसकी कई आशाएँ और स्वप्न हैं। इन्हें कैसे पूरा किया जाए यह चुनौती भी हमारे सामने है। श्री नाथ ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के शिक्षित युवाओं की बेहतरी के लिए कई स्तरों पर काम कर रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि भविष्य के मध्यप्रदेश में हर बेरोजगार के पास काम हो, यह हमारा लक्ष्य है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चे हमेशा इस बात को मन-मस्तिष्क में स्पष्ट रखें कि शिक्षा लेने की प्रक्रिया एक समय के बाद समाप्त हो जाएगी लेकिन ज्ञान प्राप्त करने की प्रक्रिया जीवनपर्यन्त जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि मुझे आज भी कई अवसरों पर नया ज्ञान मिलता है और यही ज्ञान हमें जीवन में आगे बढ़ने में मदद करता है। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि जहाँ से भी ज्ञान मिले, उसे अर्जित करें क्योंकि यही उन्हें सफलता के नये सोपानों तक पहुँचाएगा।

मुख्यमंत्री ने 40 साल पहले के छिंदवाड़ा का जिक्र करते हुए कहा कि उस समय शैक्षणिक संस्थाओं तथा अन्य संसाधनों की सीमितता थी। आज का छिंदवाड़ा संसाधनों और शैक्षणिक संस्थाओं के मामले में सबसे आदर्श जिला है। नई पीढ़ी को अपने माता-पिता, दादा-दादी और नाना-नानी से पुराने और आज के छिंदवाड़ा की स्थिति जरूर जानना चाहिए क्योंकि इससे ही वे आने वाले समय में अपने जिले को और अधिक श्रेष्ठ बनाने के प्रयासों में सहयोगी बनेंगे। मुख्यमंत्री ने बताया कि शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के लिए छिंदवाड़ा में कई कदम उठाए जा रहे हैं। हाल ही में छिंदवाड़ा में मेडिकल इंस्टीट्यूट खोला गया है। अब यहाँ के लोगों को नागपुर इलाज के लिए नहीं जाना पड़ेगा बल्कि नागपुर के लोग यहाँ पर चिकित्सा के लिए आयेंगे। उन्होंने बताया कि जल्दी ही छिंदवाड़ा में एक सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालय भी स्थापित होगा। इससे आने वाले दिनों में यह जिला, शिक्षा और स्वास्थ्य हब के रूप में विकसित होगा।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने शिक्षा का अधिकार अधिनियम में नर्सरी कक्षा में प्रवेश के लिये चयनित नव प्रवेशी छात्रा कुमारी आस्था उईके तथा कक्षा 10वीं की परीक्षा में जिले में प्रथम आने पर दिव्यांग छात्रा कुमारी प्रणवी मुरजानी का सम्मान किया। उन्होंने नि:शुल्क पाठ्य-पुस्तक वितरण योजना में छात्रा कुमारी जैनब खान को पुस्तकें तथा नि:शुल्क सायकल वितरण योजना में शासकीय कन्या उच्च माध्यमिक शाला रोहनाकलां की कक्षा 6वीं की छात्रा कुमारी अंजली वंशकार, कक्षा 9वीं की छात्रा कुमारी भूमिका कराडे, शासकीय हाई स्कूल भैसादंड की कक्षा 9वीं की छात्रा कुमारी खुशी सोनी, शासकीय माध्यमिक शाला सारना की कक्षा 6वीं की छात्रा कुमारी खुशबू उसरेठे एवं शासकीय माध्यमिक शाला मानेगांव के छात्र कृष्ण कुमार बंदेवार को सायकल वितरित की। उन्होंने स्मार्ट क्लास के लिये शासकीय माध्यमिक शाला लोनिया करबल को एल.ई.डी. प्रदाय की। नाबालिग बच्चियों के अपहरण और गुमशुदा लोगों, मानव तस्करी आदि से जुड़े अपराधियों की तत्परता से गिरफ्तारी और अपराध नियंत्रण की उत्कृष्ट सेवाओं के लिए पुलिस अधिकारियों और पुलिस कर्मियों को सम्मानित किया। समारोह में मुख्यमंत्री एवं अन्य अतिथियों का पुस्तक भेंट कर सम्मान किया गया ।

कलेक्टर डॉ. श्रीनिवास शर्मा ने छिंदवाड़ा जिले में शैक्षणिक संस्थाओं में मुख्यमंत्री की ओर से दी जाने वाली सौगातों की घोषणा की। जिले के प्रत्येक हाई और हायर सेकेंडरी स्कूल को खेल सामग्री क्रय के लिये 10 हजार रूपये, संगीत सामग्री के लिये 15 हजार रूपये, जिले की प्रत्येक शाला में पुस्तकालय के लिये 200 पुस्तकों का सेट और प्रत्येक शाला में एन.सी.आर.टी से विज्ञान और गणित की किट उपलब्ध कराई जायेगी। जिले की सभी शालाओं में विद्युत कनेक्शन एवं उपकरण देने, इंस्पायर अवार्ड विजेता छात्रा कुमारी सुलोचना काकोड़िया को लेपटॉप क्रय के लिये 25 हजार का चेक देने, जिले की 200 माध्यमिक शालाओं में गणित, विज्ञान और अंग्रेजी विषय के ज्ञानवर्धन के लिये एक-एक एल.ई.डी. उपलब्ध करवाने, शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय छिन्दवाड़ा को स्मार्ट क्लास के लिये उपकरण तथा कम्प्यूटर लैब और ऑडिटोरियम हॉल का निर्माण कराने की घोषणा की।

इस मौके पर सांसद श्री नकुलनाथ, पूर्व मंत्री श्री दीपक सक्सेना एवं बड़ी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित थे।

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp


Warning: Invalid argument supplied for foreach() in /srv/users/serverpilot/apps/rajkaaj/public/news/footer1.php on line 120
Total Visiter:0

Todays Visiter:0